Saturday, 23 November 2013

ऐ चाँद ! तुम मुझे साजन……. !




चाँद ! तुम मुझे साजन सलोने देना !
रोते बच्चे के हाथ में खिलौने देना  !!
              ऐ चाँद ! तुम मुझे साजन……. !

गर दुखाऊँ मै दिल कभी सादादिल का !
तो रोयेंगी आँखे मेरी तुम इन्हे रोने देना !!
              ऐ चाँद ! तुम मुझे साजन……. !

छीन ले हाथों से मेरे कोई रोटी का टुकड़ा !
तो होता है फिर जो भी तुम वो होने देना  !!
              ऐ चाँद ! तुम मुझे साजन……. !

मचाओ शोर बादलों इस उजड़े मज़ार पे !
"तन्हा" सोते हैं यहाँ तुम इन्हे सोने देना  !!
              ऐ चाँद ! तुम मुझे साजन……. !

                                             -" तन्हा " चारू !!


सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!

No comments:

Post a Comment