Tuesday, 19 November 2013

मन मयूर के द्वार पर ,ये दस्तक देता कौन है !!





मन मयूर के द्वार पर ,ये दस्तक देता कौन है !!

अभिलाषाओ के पंख पखारे ,
सुदूर देश के सपने सजाये  !

इक मधुर स्पन्दन बन  ,
ये दस्तक देता कौन है  !!
मन मयूर के द्वार पर ,ये दस्तक देता कौन है !!

सपनीली आँखों में मेरी ,
इंद्रधनुष बन कर छाता !

प्रथम प्रहर का प्रहरी बन,
ये दस्तक देता कौन है  !!
मन मयूर के द्वार पर ,ये दस्तक देता कौन है !!

प्रेम की वाणी ,स्नेह और त्याग ,
विस्मित करता हर्ष ,अनुराग  !

ह्रदय का " तन्हा " मीत बन  ,
ये दस्तक देता कौन है  !!


मन मयूर के द्वार पर ,ये दस्तक देता कौन है !!
                                                                 -" तन्हा " चारू !! 


सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!

No comments:

Post a Comment