Thursday, 14 November 2013

मैं ;एक गीत लिखूँगा .... !!!



मैंने ;
तुमसे कहा था ,कभी .
मैं ,
एक गीत लिखूँगा ,
कैसे ; कब  ???
जब ;
तुम सोलह सिंगार किये ,
                                 दमक रही होगी !
हाँथो में मेहँदी ,
पैरों में पायल ,
                      छनक रही होगी !!
ऐसे में ;
अतीत की कलम उठा कर !
तेरे लबों से लब् मिला कर !!
मैं ;
तुम्हारी झील सी आँखों में ,
                                    डूब जाऊँगा !
भाव स्वयं ही आ जायेंगे  ,
जब लाज का घूँघट , उठाऊँगा  !
और फिर ;
तुम कुछ ,लजाती सी ;
स्वयं में ,सिमट जाओगी !
कुछ पुलकित सी होती ;
मेरे अंग-अंग में ,बस जाओगी !
तब ;
तुम स्वयं ही ,
एक गीत बन जाओगी !!
मैंने ;
तुमसे कहा था , कभी .......  !!!

                       - " तन्हा " चारू !!

सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!

No comments:

Post a Comment