Sunday, 10 November 2013

शाहीन से तितली लड़ा ली जाए !!

शाहीन से तितली लड़ा ली जाए !!

~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
"तन्हा "चारू !!


मिजाज -ए -आशक़ी ,बढ़ा ली जाए !

पेशानी पे त्योरी , चढ़ा ली जाए !!
हर सूं होगी याँ नाज़ुकी की बात !
शाहीन से तितली लड़ा ली जाए !!
शाहीन से तितली लड़ा ली जाए !!


सुर्ख पर जुदा करने से पहले !

उसे फ़िर "तन्हा "करने से पहले !!
मशवरा -ए -क़ातिल पे क्यू न !
तेग़ हल्क़ पे आज़मा ली जाए !!
शाहीन से तितली लड़ा ली जाए !!

सुपुर्द -ए -ख़ाक तो कर दिया !
तितली को राख़ तो कर दिया !!
शाहीन के दीवानों ,सुनो इल्तिज़ा !
क़ुर्बानी पे अब खाक़ न डाली जाए !! 
शाहीन से तितली लड़ा ली जाए !!

                                       - " तन्हा " चारू !!

सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!

No comments:

Post a Comment