Sunday, 10 November 2013

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !





कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !                                                                                                                 

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !
ये सोच रहा था अर्जुन !!

कैसी है ये जग की रीत !
जो थे अपने मन के मीत !!
इन सब पर पाकर जीत !
छीनूँगा कितने अधर गीत !!

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !                                                                                                                           ये देख रहा था अर्जुन !!

होगी जब बाणो की मार !
अपने होंगे सब तार -तार !!
हर आँख से बहेगी अश्रुधार !
और टूटेगा सिर्फ अहंकार !!

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !
ये सुन रहा था अर्जुन !!

न देख मांगों का सिन्दूर !
नश्वर सँसार है क्षणभंगुर !!
कर दे सब मोह को दूर !
तब निकलेगा नव -अँकुर !!

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !
ये समझ रहा था अर्जुन !!

कैसे हो मोह से विरक्त !
कैसे छूटे रक्त से रक्त !!
सब है काया पे आसक्त !
और माया के अनन्य भक्त !!

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !
ये मान रहा था अर्जुन !!

उसे है अब मुक्ति पाना !
"तन्हा " है आना -जाना !!
ये सत्य सबने माना !
न अपना कोई न बेगाना !!

कुरुक्षेत्र में खड़ा था अर्जुन !
कुरुक्षेत्र में खड़ा है अर्जुन !!
                                - "तन्हा" चारू !! 


सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!











No comments:

Post a Comment