Wednesday, 4 December 2013

15-02-1995 !

इक निग़ाह डालो इन पर ! 
जो दरमियान  हमारे हैं !!

उफ़क़ की तरफ़ देखते हैं !
ये नाज़ ओ ह्या के मारे हैं !!
                  -          " तन्हा " चारू !!
                            15-02-1995



     ये तेरे शौक़ के जो मुझ पर करम हो गये !
           सारी दुनियाँ के वास्ते अजनबी हम हो गये !!

           न करता गर हिज्र में ग़िला तो क्या करता !
           क्यूँ तुम रक़ीबों के यूँ हम - क़दम हो गये !!
                 
                                               - " तन्हा " चारू !!
                                                     13-02-1995                                                                                                       

            ज़िक्रे उल्फ़त जब चला हर बात तुम्हारी याद आई !    
             संग जब मुझ पर चला सौगात तुम्हारी याद आई !!

             नक्श - ए - पाँ  न वो पा सका इश्क के वीराने में ! 
             हर ठोकर पर ज़ेरे-लब मुलाक़ात तुम्हारी याद आई !!

                                                                 - " तन्हा " चारू !!  

            


No comments:

Post a Comment