Wednesday, 8 January 2014

तूफाँ से आती है तपिश-ए-आब की झलक !




तूफाँ से आती है तपिश-ए-आब की झलक !
देती है ख्वाहिश पेंच-ओ--ताब की झलक !!

उलट दे सऱे - राह वो नक़ाब ऐ सबा !
दिखला दे फिर मुझे माहताब की झलक !!

फ़िर देखूँगा मोजिज़ तेरे इस कमाल को !
देखो अभी रंगीनिये -शबाब की झलक  !!

पेशानी पे होता सुर्ख वो दाग़ -ए -बोसा मेरा !
किस क़दर है ज़ाहिर तेरे इताब की झलक !!

खुशग़वार फ़िज़ा धुंधलकी शाम शबे स्याह !
हर पहर है तेरे इज्तिराब की झलक !!

अब्र उठा ;जाम उठा ; मस्त हो ;सलाम कर !
हो नुमायां बज़्म में आलमताब की झलक  !!

कैफ़-ए-कलाम-ए-"तन्हा" है मर्हलों के पार !
आती है इसमें बू-ए -इन्क़िलाब की झलक !!
  
                                                - " तन्हा " चारू !!
                                                     08-02-1997  

सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!

तपिश             = गर्मी ; आकुलता ; बेक़रारी
आब                 = पानी
पेंच         = उलझाव ; घुमाव
ताब         = ताप, शक्ति, धीरज, क्रोध  
माहताब      = चाँद
मोजिज़      = चमत्कार दिखाने वाला ; जादूगर ; खुदा
रंगीनियेशबाब = हुस्न ; सौन्दर्य
पेशानी       = माथा ; ललाट
दाग़         = निशान, घाव का चिन्ह, कलंक, दोष, विपदा, हानि
बोसा        = चुम्बन          
इताब          = क्रोध, अप्रसन्नता, डाँट, दोष लगाना
इज़्तिराब     = अशान्ति, चिन्ता, घबराहट, बेचैनी  
बज़्म          = सभा, टोली (महफ़िल )
आलमताब    = सबको रोशन करने वाला ; खुदा !
कैफ़         = आनंद ; नशा
कलाम       = रचना ; कविता   
मर्हलों       = गंतव्य ; आखरी स्थान   
बू-एइन्क़िलाब= आजादी की महक ; क्रान्ति

No comments:

Post a Comment