Thursday, 2 January 2014

कल्म किया क्यूँ सर मेरा इसका अफ़सोस नहीं !



कैसा तीर फिर मेरे इस ज़िगर के पार गया !
दर्द उठा अश्क बहे या'नी जाँ का आज़ार गया !!

कल्म किया क्यूँ सर मेरा इसका अफ़सोस नहीं !
हाय ! मेरा वो नन्हा दिल मसला कई बार गया !!

बदसलूकी आज़माने उसकी बज्म ओ महफ़िल में !
जो गया इक बार गया मैं वहाँ हर बार गया !!

तंज कसे तेग़ खींचा सलीब पे "तन्हा "झूल गया !
देखो किस-किस ज़ानिब मैं अपनी जां वार गया !!

                                         - " तन्हा " चारू !!
                                              06-02-1997 

सर्वाधिकार सुरक्षित © अम्बुज कुमार खरे  " तन्हा " चारू !!


No comments:

Post a Comment